Page Experience Update Kya Hai in Hindi

नमस्कार दोस्तों , आपका हमारे ब्लॉग पर स्वागत है , आज हम सीखेंगे Page Experience Update Kya Hai in Hindi.

दोस्तों , Mid June 2021 में Google अपना एक new Update Roll Out करने वाला है ,जिसका नाम Page Experience रखा गया है।

यह Update User का website के साथ Experience किस प्रकार Improve किया जा सकता है , मुख्यरूप से उसपर ही Focus करेगा।

Google ने यह बात साफ कर दी है की अब वह उन website को ज्यादा Preference देगा जिनका पेज एक्सपीरियंस user Friendly है।

गूगल ने Experience को मुख्यरूप से 7 Parts में Divide किया है , जिसमे website Speed , Interaction , Delay , security और Mobile Usability को प्रमुखता दी है।

इसलिए आपको June 2021  आने से पहले अपनी website को इन experience के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर लेना है।

अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आपकी website की Ranking बहुत तेजी से नीचे गिर जायगी।

Google ने इस update को अपनी Ranking signal का नया भाग बताया है। उनके अनुसार इस अपडेट के बाद Page Experience भी आपकी website की Ranking को decide करेगा।

Google ने update को Rollout करने से पहले ही Google Search Console के अंदर Page Experience के Feature को Add कर दिया है।

ताकि user Page Experience को अच्छे से समझ पाए।

चलिए दोस्तों , अब हम आर्टिकल की डिटेल में जाते है।

Page Experience क्या है ?

दोस्तों , Page Experience गूगल का एक new Update है , जिसको New Ranking Signal भी कहाँ जा रहा है।

इस update के अनुसार आपकी website को 7 Factors को Cross करना होगा तभी उसकी Ranking Google पर improve होगी।

पेज एक्सपीरियंस Ranking का केवल एक भाग है, Website की Ranking कम्पलीट इस पर depend नहीं करेगी।

Website को रैंक करवाने के लिए अन्य Factor जैसे – Onpage seo , OffPage seo , सोशल सिग्नल और अन्य चीज़ो को भी फॉलो करना होगा।

According to Google, जब कोई user एक website पर visit करता है तो उसका उस website पर कैसा अनुभव रहा है।

वह अनुभव अच्छा भी हो सकता है और बुरा भी , user के अनुभव के अनुसार ही वेबसाइट की ranking को improve किया जायगा।

इसी को ही Page Experience Update कहाँ जा रहा है।

गूगल अब ऐसी वेबसाइट की Ranking Down करेगा , जिनके पास Https Certificate नहीं है , जिनकी website में security issues है।

वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली नहीं है , वेबसाइट की स्पीड भी अब एक Ranking Signal बनाने वाली है।

इसलिए आपको इस अपडेट के आने से पहले इन सभी issue को fix कर लेना है , नहीं तो आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को नुकसान हो सकता है।

Also, Read –

Page Experience के Important Factors-

दोस्तों, Google Search Console में उपलब्ध Page Experience Feature के अनुसार Total 5 Important Factor है।

1 ) Webcore Vitals –

WebCore Vital एक बहुत पुरानी Term है Google Search Console. इसके अंदर 4 चीज़े आती है।

1 ) LCP

2 ) FCP

3 ) FID

4) CLS

LCP का अर्थ है  Largest Contentful Paint. यह आपकी वेबसाइट के viewport का सबसे largest element होता है।

जब यूजर आपकी वेबसाइट को ओपन करता है तो उस दौरान जो सबसे largest Element Visual होने में जो समय लेता है , उसको ही LCP कहाँ जाता है।

LCP के खराब होने का मुख्य कारण Images को माना जाता है। आपके Page का LCP Element अगर image आता है तो ज्यादातर Chances यह बनता है की आपका LCP Score खराब होगा।

Lcp Score को Improve करने के लिए आपको अपने Lcp element को 2.5 Seconds में load करवाना होगा। तभी आपका Lcp Score अच्छा माना जाता है।

में आपको Lcp Score Improve करने के लिए यह सलाह दूंगा की आपको अपने ब्लॉग में webp images का उपयोग करना चाहिए।

उसी प्रकार FCP का अर्थ है First Contentful Paint . इसका मतलब है website के link को click करने के बाद पहला Visual कितने समय में दीखता है। उसी को ही FCP कहते है।

दोस्तों , FCP को improve करने के लिए आपको अपनी website को Fast webhosting में shift करना होगा।

अगर आपकी webhosting slow रहेगी तो आपका FCP Score कभी भी improve नहीं होगा।

FID का अर्थ First Input Delay . इसका अर्थ है पहले input को दिखने में लगने वाला समय। अपने Page Experience को Improve करने के लिए आपको FID Score भी इम्प्रूव करना होगा।

CLS एक important Factor है webcore Vital में। इसका अर्थ है जब कोई व्यक्ति आपके website link पर क्लिक करता है।

उसके बाद आपकी वेबसाइट के layout में कितना shift होता है इसी को cls कहते है। आपको इसको भी इम्प्रूव करना होगा better Page Experience के लिए।

2) Mobile Usability –

दूसरा Important Factor है Mobile Usability. इसका अर्थ है आपकी website कितनी Mobile Friendly है।

Mobile Friendly का मतलब है , आपकी website कितनी Fast mobile में open हो सकती है। Website का डिज़ाइन और navigation User Friendly है या नहीं।

यह सभी Factor मिलकर मोबाइल friendliness को दर्शाते है।

3) Security Issue –

security Issue का मतलब है आपकी website में कोई सिक्योरिटी से संबंधित issue तो नहीं है।

जैसे – आपकी वेबसाइट को पेनलिटी लग गयी हो या आपकी वेबसाइट यूजर के लिए safe नहीं इत्यादि।

आपको यह सभी issue detect करने होँगे।

4) HTTPS –

दोस्तों , HTTPs को हम SSL Certificate के नाम से भी जानते है। यह आपकी वेबसाइट की security को दर्शाता है।

अगर आपकी website में SSL Certificate लगा हुआ है तो आपकी website SEO Friendly और secure कह लाएगी।

इसी वजह से इसको Page Experience का एक भाग बनाया गया है।

5) Ad Experience –

दोस्तों , अगर आपकी website का कोई भी post Ad Violation करता है तो Google उसको bad Page Experience मानता है।

अगर आपकी website में Ad की वजह से user का Experience खराब हो रहा है वह भी bad Ad Experience कहलाता है।

जैसे – आपकी website में बार बार ads popup हो रहे है।

अपने जरूरत से ज्यादा ad लगा रखा है या ad की वजह से आपकी वेबसाइट बार बार redirect हो रही है।

Page Experience Update Kya Hai

Google Search Console में Page Experience कैसे use करे-

दोस्तों , हालही में सर्च कंसोल के अंदर Page Experience के Feature को Add किया गया है।

इसका उपयोग करने के लिए आप सबसे पहले गूगल में सर्च कंसोल को open कर ले।

Open करने के बाद आपको left side में Page Experience का ऑप्शन दिख होगा , इस पर क्लिक करे।

यहाँ पर आपको सबसे पहले ऑप्शन में उन यूआरएल की लिस्ट दिख जायगी जिनका page experience अच्छा है।

थोड़ा सा नीचे स्क्रॉल करने पर आपको Page Experience Signal दिख जायँगे।

जैसे – webcore vital , Https , Security . Mobile Usability और Ad एक्सपीरियंस।

आपके किसी भी signal में error होगा तो वह यहाँ पर दिख जायगा, अगर सबकुछ सही होगा तो यह ऑप्शन Green Colour में show होँगे।

अगर आपको Page Experience में Error Show कर रहा है तो आपको उन url की लिस्ट बना लेनी है जिसमे error दिखा रहा है।

उसके बाद आप Page Speed Insight में जाकर उन Url को Individual Check करना है।

उनके error का Reason Find करके उनको Fix करना है ताकि आपका Page Experience Improve हो पाए।

Also, Read – Chote jio me whatsapp kaise delete kare

Page Experience के Error को कैसे Fix करे –

दोस्तों , पेज एक्सपीरियंस में 7 Factors आते है। अगर इनमे से किसी एक भी factor में error होगा तो आपका overall पेज एक्सपीरियंस खराब हो जायगा।

इसलिए आपको सभी signal को बारीकी से monitor करना चाहिए।

सबसे पहला फैक्टर है  webcore Vital. इसके अंदर आपको LCP ,FCP और FID को बारीकी से monitor करना चाहिए और error आने पर problem solve करने की कोशिश करनी चाहिए।

Next Factor है mobile usability. आपको अपनी वेबसाइट को mobile Friendly बनाने पर Focus करना चाहिए।

अपनी website की security पर ध्यान देना चाहिए और Https को website पर enable करना चाहिए।

फाइनली आपको उन ऐसा Content नहीं लिखना है जो google के Ads की policy को Voilate करता है।

Final words on Page Experience Update Kya Hai in Hindi-

Guys, मुझे उम्मीद है आपको आज की पोस्ट Page Experience Update Kya Hai in Hindi पसंद आयी होगी।

आज हमने पेज एक्सपीरियंस अपडेट और इसे Google Search Console में कैसे Add करे , detail में समझने की कोशिश की है।

वैसे तो ये Update Mid June में Roll Out होगा , परन्तु हमे इसके बारे में अभी से सम्पूर्ण जानकारी होनी चाहिए ताकि हम अपडेट के आने से पहले ही अपनी वेबसाइट को ऑप्टिमाइज़ कर ले।

आशा है आपको आज की पोस्ट पसंद आयी होगी।

Page Experience से जुड़े सवाल और जवाब –

Q1- Page Experience Update कब आने वाला है ?

Ans – यह update Mid June 2021 से websites पर Roll out होने लग जायगा।

Q2) – Page  Experience Signal क्या है ?

Ans – यह कुछ signals है जिसके आधार पर Google आपके overall Page Experience को judge करता है।

Q3) – Page Signal में क्या क्या आता है ?

Ans – page signal में Webcore vitals, Https, security issues और Ad Signal आता है।

Q4) क्या पेज एक्सपीरियंस अपडेट से वेबसाइट की रैंकिंग में प्रभाव पड़ता है ?

Ans – जी हां , अगर आपकी वेबसाइट का पेज एक्सपीरियंस खराब होगा तो वह गूगल रैंकिंग में डाउन होती चली जायगी।

3 thoughts on “Page Experience Update Kya Hai in Hindi”

Leave a Reply