Meta Description Kya Hai Aur Isko Kaise likhte Hain

नमस्कार दोस्तों , आपका Indo Blogging में स्वागत है आज में आपको Meta Description Kya hai इसके बारे में सम्पूर्ण जानकरी दूंगा।

दोस्तों , एक ब्लॉग को  शुरू करना आसान है परन्तु उसको Maintain करना उतना ही मुश्किल है।

आपको ब्लॉग की  बहुत सारी छोटी छोटी SEO Terms को सीखना होगा। बिना यह Term सीखें आप आप अपनी ब्लॉग्गिंग की journey में सफल नहीं हो सकते।

यह छोटी छोटी टर्म आपकी सर्च इंजन में रैंकिंग Improve करने में बहुत मदद करती है।

इसलिए आपको यह terms सीखते रहना चाहिए ताकि आप अपने ब्लॉग के seo को improve कर पाए।

इन्ही छोटी छोटी टर्म्स में से एक term है meta description .

यह बहुत ही important टर्म है क्योकि इसके बिना आपके पोस्ट की विजिबिलिटी गूगल में Possible नहीं है।

अगर आप खुद से मेटा डिस्क्रिप्शन नहीं लिखते है तो गूगल बोट अपने हिसाब से आपके पोस्ट का मेटा डिस्क्रिप्शन declare कर देता है।

इससे आपको समझ आ गया होगा की गूगल की नज़र में मेटा description कितना important होता है।

आज में आपको ब्लॉगर और WordPress दोनों के लिए मेटा डिस्क्रिप्शन लिखना सिखाऊंगा।

चलिए अब हम आज की पोस्ट के बारे में समझने की कोशिश करते है।

Meta Description Kya Hai ? –

दोस्तों, Meta description आपके पोस्ट की छोटी सी summary होती है। जिसको गूगल यूजर के सामने Title के साथ दिखाता है।

यह ऑडियंस को आपके पोस्ट के बारे जानकारी देने में मदद करता है।

अगर हम गूगल में इसकी पोजीशन की बात करे तो जब आप गूगल पर किसी भी query को सर्च करते है।

तब आपके सामने सर्च रिजल्ट्स आ जाते है। इन सर्च रिजल्ट्स में आपने ध्यान दिया है क्या क्या elements होते है।

एक Title होता है , एक Url होता है और टाइटल के नीचे आपको 2 line दिखाई देती है। यह 2 लाइन ही आपके पोस्ट की मेटा डिस्क्रिप्शन होती है।

i think अब आपको पता चल गया होगा मेटा डिस्क्रिप्शन कहाँ पर show होता है और इसके ब्लॉग की रैंकिंग में क्यों Importance है।

Meta Tag क्या होता है –

दोस्तों , Meta Tag आपके Seo के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। मेटा टैग को मुख्यतः 2 भाग में बाटा गया है।

1 ) Meta Title

2 ) Meta Description

आपको मेटा टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च इंजन के रिजल्ट में दिख जाता है। जब आप किसी भी कीवर्ड पर query करते है तब आपके सामने बहुत सारे रिजल्ट दिखाई देते है।

आपको उन रिजल्ट के टाइटल और डिस्क्रिप्शन ही दिखाई देते है।

Meta Tag आपको दिखाई नहीं देता है परन्तु यह Search Engine के लिए विज़िबल होता है।

आपको मेटा Tag देखना है तो आपको अपने पोस्ट को ओपन करना है और अपने Mouse से Right click करना है।

अब आपको यहाँ पर View Page Source का ऑप्शन दिखाई देगा आपको इसके ऊपर क्लिक करना है।

आपके सामने पोस्ट की source फाइल ओपन हो जायगी। आपको यहां पर Head के नीचे Meta Tags दिखाई दे जायँगे।

मेटा डिस्क्रिप्शन कितने प्रकार का होता है –

दोस्तों , मेटा डिस्क्रिप्शन मुख्य रूप से 3 प्रकार का होता है। इन सभी का कार्य अपने Role के अनुसार अलग अलग होता है।

1 ) Meta Tag –

यह आपके Page के Head Section में होता है और Crawler इसको Read करके आपके पुरे आर्टिकल के बारे जानकारी प्राप्त करता है।

आपको अपने मेटा टैग में अपना Main Keyword जरूर रखना चाहिए।

2 ) Meta Description Tag –

यह आपके आर्टिकल की एक छोटी सी Summary होती है और यह आर्टिकल को Brief करने में मदद करती है।

3 ) Meta Robot Tag –

यह Tags Google Bots को Invite करते है ताकि Bots आपके ब्लॉग पर आ कर आपकी पोस्ट को Crawl करके इंडेक्स कर दे।

Meta Description लिखने का सही तरीका –

दोस्तों, चाहे आप ब्लॉगर पर काम करते हो या WordPress पर आपको मेटा डिस्क्रिप्शन लिखते समय कुछ बातो का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

A) Meta Description Length –

यह बहुत ही ज्यादा Important Factor है।  आपको 150 words से ज्यादा का मेटा डिस्क्रिप्शन नहीं लिखना चाहिए।

अगर आप ज्यादा word का डिस्क्रिप्शन लिखते है तो वह Google के Search पेज में अच्छे से दिखाई नहीं देगा। जो bad seo प्रैक्टिस कह लाएगी।

B) उचित Focus Keyword का उपयोग करे –

आपको अपने मेटा डिस्क्रिप्शन में फोकस कीवर्ड जरूर Add करना चाहिए।

क्योकि जब user query करता है तो title के साथ साथ description में भी keyword हो तो सर्च में visibility के chances बढ़ जाते है।

यह Good SEO Practice का एक अच्छा Example है।

C) मेटा डिस्क्रिप्शन में क्या लिखे –

आपको मेटा डिस्क्रिप्शन के अंदर अपनी पोस्ट का एक छोटा सा सारांश लिखना चाहिए ताकि user को आपकी पोस्ट के बारे में बिना पढ़े समझ आ जाए की यह पोस्ट किसके बारे में है।

D) Paragraph use नहीं करे –

आपको अलग से अपनी पोस्ट का मेटा डिस्क्रिप्शन लिखना है। पोस्ट के paragraph का use नहीं करे।

अलग से पोस्ट का description लिखंगे तो आप उसको अच्छे से explain कर पायंगे।

E) Attractive Words का उपयोग करे –

दोस्तों , आपको अपने Meta Description लिखते समय आकर्षित शब्दों का उपयोग करना चाहिए।

इससे यूज़र का ध्यान आपके पोस्ट के ऊपर जाता है और वह आपके पोस्ट के ऊपर क्लिक करता है।

इसलिए आपको Attractive Words का उपयोग करना चाहिए ताकि आपका ctr improve हो।

Meta Description का उपयोग कैसे करे –

दोस्तों , ब्लॉगर और वर्डप्रेस दोनों में मेटा डिस्क्रिप्शन लिखने का अलग तरीका है।

में आपको दोनों में कैसे मेटा डिस्क्रिप्शन लिख सकते है वह बताऊंगा।

1) Blogger में Meta Tag Description कैसे लिखे –

पहले हम ब्लॉगर में मेटा डिस्क्रिप्शन लिखना सीख लेते है।

सबसे पहले आपको अपना ब्लॉगर open कर लेना है और Homepage पर आ जाना है।

अब आपको अपनी पोस्ट को ओपन करना है जिसका आप डिस्क्रिप्शन लिखना चाहते है।

पोस्ट open होने के बाद आपको right side में सर्च description का ऑप्शन दिखाई दे रहा होगा।

आपको सर्च डिस्क्रिप्शन पर क्लिक करके ओपन कर लेना है।

यहाँ पर आपको 150 words में अपने focus keyword के साथ easy language मेटा लिखना है।

आपके ब्लॉगर पोस्ट में आपने SEO Optimized Description लिख दिया है।

blogger me meta description kaise likhe
Blogger me meta description kaise likhe

2) WordPress website में Meta Description कैसे लिखे-

WordPress में मेटा डिस्क्रिप्शन लिखने के लिए आपको एक SEO की Plugin Install करनी होगी।

आप प्लगिन्स में जाकर Add New पर क्लिक करके Yoast या Rank Math में से किसी भी Plugin को इनस्टॉल कर सकते है।

अब आपको पोस्ट में जाकर वह पोस्ट open करनी है जिसका आप मेटा लिखना चाहते है।

पोस्ट ओपन होने के बाद आपको नीचे स्क्रॉल करना है यहाँ डिस्क्रिप्शन का ऑप्शन दिखाई देगा।

आपको डिस्क्रिप्शन में well Optimized 2 लाइन का सारांश लिखना है और सारांश में आपका कीवर्ड जरूर add करना है।

आपका वर्डप्रेस में भी डिस्क्रिप्शन लिखा जा चूका है।

wordpress me meta description kaise likhe
WordPress me meta description kaise likhe

Meta Description Benefits in Hindi-

दोस्तों , मेटा डिस्क्रिप्शन लिखने का सबसे बड़ा बेनिफिट यह होता है की यह गूगल को हेल्प करता है की आपकी पोस्ट किस query को Answer करती है।

साधरण शब्दो में कहाँ जाए तो आपके ब्लॉग पोस्ट की गूगल पर विसिबिल्टी मेटा की वजह से ही होती है।

यह आपके ब्लॉग की रैंकिंग को भी सर्च में इम्प्रूव करता है।

अगर आप मेटा डिस्क्रिप्शन अच्छे से ऑप्टिमाइज़ नहीं करते है तो गूगल अपने हिसाब से जो मेटा आपकी पोस्ट में अच्छा लग रहा है उसे सर्च में दिखाने लगता है।

ताकि आपकी परफॉरमेंस गूगल पर improve हो सके।

Final words on Meta Description Kya hai aur isko kaise likhte hain-

दोस्तों, I hope आपको आज की पोस्ट Meta Description Kya hai aur isko kaise likhte hain बहुत ज्यादा पसंद आयी होगी।

जैसे मैंने beginning में आपको बोला था की seo के अंदर बहुत सारी छोटी छोटी terms है।

जो आपकी वेबसाइट की सर्च रिजल्ट में रैंकिंग इम्प्रूव करती है। आपको यह सभी टर्म सीखनी होगी और अप्लाई भी करनी होगी।

तभी आप अपने ब्लॉग की विजिबिलिटी और रैंकिंग गूगल में सुधार पायेंगे। आज मैंने आपको इन्ही टर्म्स में से एक ही टर्म बताई है।

आगे मेरी कोशिश रहेगी आपको और भी छोटी छोटी terms बता पाउ।

आशा है आपको आज की पोस्ट informative लगी होगी।

मेटा डिस्क्रिप्शन से जुड़े सवाल और जवाब –

Q1) क्या मेटा डिस्क्रिप्शन बाद में बदला जा सकता है?

Ans – जी हाँ , आप कभी भी अपने पोस्ट की मेटा डिस्क्रिप्शन को change कर सकते है।

Q2) क्या मेटा डिस्क्रिप्शन कंटेंट के समान ही होना चाहिए?

Ans – नहीं , मेटा डिस्क्रिप्शन 150 शब्दो का एक छोटा सा सारांश होना चाहिए। जो आपके ब्लॉग के content को समझने में मदद करे।

Q3) मेटा डिस्क्रिप्शन में क्या लिखना चाहिए?

Ans – मेटा डिस्क्रिप्शन में आपको अपने पोस्ट का सारांश लिखना चाहिए और फोकस कीवर्ड जरूर ऐड करना चाहिए ।

Q4) मेटा डिस्क्रिप्शन ऑप्टिमाइज़ कैसे करे ?

Ans – दोस्तों , आप अपने मेटा डिस्क्रिप्शन की length और Keywords को ऑप्टिमाइज़ करके मेटा डिस्क्रिप्शन को ऑप्टिमाइज़ कर सकते हो।

Q5) मेटा विवरण क्यों महत्वपूर्ण हैं?

Ans – मेटा विवरण से सर्च इंजन को आपकी पोस्ट के बारे में ज्यादा Information प्राप्त होती है जिससे आपकी पोस्ट की रैंकिंग इम्प्रूव होती है। यह आपकी पोस्ट के CTR को भी इम्प्रूव करने में मदद करता है।

      Read, More –

Leave a Reply