सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है और SEO कैसे करें

नमस्कार दोस्तों , आज हम सीखेंगे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है और SEO कैसे करें

दोस्तों ,अगर आप blogging करते है या आपकी website है तो आपने एक term का नाम जरूर सुना होगा, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन

आप में से बहुत सारे लोग इसके बारे में अच्छे से जानते होंगे और काफी को जानकारी नहीं होगी।

आज के आर्टिकल में , में आपकी SEO से related basic query solve कर दूंगा।

अगर आप beginner है तो मेरी gurantee है ,इस article के बाद आपकी seo से रिलेटेड अच्छी knowledge बन जायगी।

दोस्तों , जब मैंने blogging शुरू की थी तो मुझे भी seo के बारे में कुछ ज्ञान नहीं था।

मैंने जब अपनी पहली post publish की थी , मुझे याद है मैंने करीब 200 pages check किये थे परन्तु मुझे मेरी पोस्ट सर्च results में दिखाई ही नहीं दी थी।

पता है इसका reason क्या था , मैंने apni पोस्ट का seo नहीं किया था।

तो दोस्तों , आपको पता लगा seo क्या है ?

Seo कुछ Important factors का sum है ,जिसके द्वारा हम अपनी पोस्ट को google के search results में ले कर आते है।

इन factors के बारे में हम आगे detail में पढ़ेंगे।

Also, Read-

Seo kya hota hai-

दोस्तों, अब हम detail में पढ़ेंगे seo क्या होता है और कैसे करे।

चलिए दोस्तों , अब में आपको समझाता हु , Seo क्या है ?

दोस्तों, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक google की term है जिसके अंदर कुछ parameters आते है , अगर हम इन parameter को follow करते है तो हमारी post google पर rank करने लगती है।

दोस्तों , यह मैंने आपको technical words समझाया है।

अब में आपको Practicle words में समझाऊंगा seo क्या है

दोस्तों, suppose करो आप आज योगा के बारे सीखना चाहते है।

आप गूगल में टाइप करते है Yoga , आपके सामने बहुत सारे search results आने लगते है।

आपने कभी सोचा है 100000 search results में केवल कुछ पेज ही top 10 में आते है

दोस्तों इसका कारण है seo , जो website अपने content को user query के अनुसार बनती है।

Google उस website के content को query के अनुसार अपने सर्च रिजल्ट में जगह देता है।

in simple words, user जिस query को google के ऊपर पूछता है , अगर हमारी पोस्ट उस query पर optimized होगी तो हमारी post के रैंक होने के chances बन जाते है।

इसका मतलब यह नहीं है, हमने Headline में question लिख दिया है और Post में उसका Answer लिख दिया है।

हमे उस query के अनुसार अपने post को optimize करना होगा।

अपने आर्टिकल का Proper Onpage और OffPage SEO भी करना होगा।

तभी हमारी पोस्ट गूगल के सर्च रिजल्ट में दिखने लगेगी।

New websites के लिए Low Competition Keywords भी एक Ranking Factor है।

Seo meaning in hindi-

इसका मतलब है user की query के अनुसार अपने पोस्ट को optimise करना।

Optimize meaning in Hindi-

Optimise का मतलब हिंदी में होता है , किसी speacial keyword पर अपनी पूरी post को लिखना।

जैसे – आप what is yoga के ऊपर पुरे पोस्ट लिखना चाहते है। तो आप अपनी पूरी पोस्ट को yoga के around ही लिखेंगे।

इसका मतलब यह नहीं है, आप पूरी post में केवल Yoga ही भर दे। आपको अपनी पोस्ट में Yoga से संबंधित सभी useful information Provide करवाना।

Types of सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन-

दोस्तों, अब तक हमने केवल यह समझा है seo होता क्या है।

अब हम seo के बारे में detail में समझेंगे।

दोस्तों , Blogging के अंदर 4 प्रकार के सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन आते है।

इसकी और भी बहुत सारी Types है , पर में यहाँ आपको 4 के बारे में बताऊंगा।

1 ) Onpage seo

2 ) Offpage seo

3) Technical seo

4) Local Seo

Google में अपनी वेबसाइट को रैंक करवाने के लिए Onpage seoऔर Offpage seo दोनों  ही बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

दोस्तों , अगर आप low competion का keyword use करते है तो आपकी website top 20 में बिना offpage seo के आ सकती है।

परन्तु शर्त यह है , वह कीवर्ड रीसर्च टूल और manually दोनों तरीको से low competion का keyword होना चाहिए।

यह चीज़ मैंने practically आजमाई हुई है इसलिए कह रहा हु।

परन्तु अगर keyword , competitive है तो आपको offpage seo का use करना होगा, अपनी website को google पर रैंक करवाने के लिए।

On-Page Seo-

दोस्तों, अब हम detail में समझेंगे , Onpage seo क्या होता है।

Onpage seo अपने आप में ही एक बहुत बड़ा टॉपिक है। Onpage seo को करने के लिए आपको पहले keyword research सीखना होगा।

क्योकि अगर आपका keyword competitive है तो आप चाहे कितना अच्छा onpage seo कर ले , आपका आर्टिकल rank नहीं करेगा।

keyword research करने के बाद, हम कीवर्ड की आर्टिकल में placement करते है ताकि Google के bot हमारा आर्टिकल किस query को टारगेट कर रहा है , समझ पाए।

Onpage seo में, हम कुछ parametres की Optimization पर ज्यादा ध्यान देते है।

जैसे – Title, Description, Post URL, Image Alt Tag , Category और Keyword density , internal linking and external linking , paragraph length etc.

ऊपर दिए गए सभी parameters को हमे SEO Friendly बनाना होता है।

तभी हमारा Onpage seo complete होता है।

Also, Read- Pinterest kya hai

OffPage SEO –

दोस्तों, अगर आपका कीवर्ड थोड़ा competitive है तो आप Offpage seo कर के अपना article google में रैंक करवा सकते है।

पहले में आपको समझता हु , OffPage seo होता क्या है।

दोस्तों, suppose कीजिए आप किसी नई जगह गए है रहने के लिए , आपकी वहाँ पर किसी से भी जानकारी नहीं है।

Month का end है और आपकी जेब में पैसे नहीं है। आप किसी दुकानदार के पास जाते है और कहते है भाई मुझे 500 rs का सामान दे दो ,में आपको पैसे बाद में लोटा दूंगा।

क्या दुकानदार आपको उधार देगा ? बहुत कम चांस है वह आपको उधार दे दे।

ऐसा क्यों होता , क्योकि आप नए है और दुकानदार को आप पर अभी trust नहीं है।

परन्तु अगर कोई वहाँ का local आदमी , यह कह दे “भाई इसको उधार दे दो ,मेरी gurantee है यह salary मिलते ही तुम्हारे पैसे वापिस कर देगा ”

दुकानदार आपको तभी के तभी उधार दे देता।

ऐसा क्यों ? क्योकि दुकानदार को अब trust हो गया है क्योकि किसी local आदमी ने आपका support किया है।

Offpage seo भी कुछ इसी तरहा है।

आपकी website अभी google पर नई है ,google को आपके content पर ज्यादा ट्रस्ट नहीं होता है। इसलिए वह आपके पोस्ट को रैंक करवाने में झिझकता है।

परन्तु अगर कोई other website आपके content को support करे तो गूगल आपकी पोस्ट को जल्दी रैंक करवा देता है।

अब question है other website हमारी वेबसाइट को कैसे सपोर्ट करती है।

इसका answer है Backlinks

हम दूसरी website पर जा कर अपनी backlinks बनाते है , google जब हमारी website का link दूसरी website पर पाता है तो हमारी website पर धीरे धीरे trust करने लग जाता है।

Offpage seo में , बैकलिंक्स बनाना और social media sharing आती है।

Technical SEO-

दोस्तों , Technical SEO का आपके Content से कोई लेना देना नहीं होता है।

इसका मुख्य लक्ष्य आपकी वेबसाइट की Technical चीज़े analyse करना होता है।

जैसे – website Speed, Navigation, Indexing, and Crawling

दोस्तों टेक्निकल SEO भी उतना ही important है जितना onpage और offpage seo

क्योकि अगर आपकी वेबसाइट technically Fit नहीं होगी तो Google में आपकी ranking down होती चली जायगी।

आप अपना Techincal SEO Google search console में जा कर manage कर सकते है।

GSC में आपकी वेबसाइट से related जो भी error और warnings है coverage section में दिख जायगी।

ज्यादातर आपको breadscrumb issue और robot .txt के issue दिखाई देंगे।

Also,Read- Youtube par End Screen kaise lagaye

Local SEO –

दोस्तों, Local Seo का अर्थ है लोकल ऑडियंस को ध्यान में रख कर किया गया seo .

इस Optimization का सबसे बढ़िया बेनिफिट यह है की इसके अंदर आपको Global वेबसाइट से Competition नहीं करना होता है।

आप अपनी वेबसाइट को लोकल keywords पर optimise करते है जिससे आपकी वेबसाइट एक पर्टिकुलर Region में रैंक होने लगती है।

लोकल seo में कम competition होने की वजह से आपको ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है।

आपकी वेबसाइट automatically Rank होने लगती है और आपको ट्रैफिक आने लगता है।

Organic traffic kya hota hai-

दोस्तों, Organic traffic का मतलब होता है गूगल keyword के अनुसार आपके पास ट्रैफिक भेजता है।

यह बिलकुल free होता है , अगर आपकी website google पर top 10 में आती है तो आपके पास organic traffic automatically आ जाता है।

Inorganic Traffic Kya hota hai –

Social media sharing से या Ads के दवारा जो ट्रैफिक हमारी website के ऊपर आता है। वह inorganic ट्रैफिक कहलता है।

SEO कैसे सीखें –

दोस्तों , Seo सीखने के लिए आपको कुछ Basic Terms को समझना और सीखना होगा।

1 ) Seo सीखने के लिए आपको Basic Knowledge होने की बहुत ज्यादा जरुरत है।

बेसिक में आपको Organic और Inorganic ट्रैफिक के बारे में पता होना चाहिए। आपको Serp क्या होता है और अन्य सर्च इंजन के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए।

2 ) आपको अपने Post के लिए कीवर्ड रिसर्च करना सीखना होगा ताकि आपकी पोस्ट के ऊपर ट्रैफिक आ सके।

3 ) आपको Onpage Page seo , Offpage seo की अच्छी जानकारी रखनी होगी ताकि आप अपनी पोस्ट को गूगल और अन्य सर्च इंजन पर रैंक करवा पाए।

आपको यह सभी चीज़े सीखनी और Apply करनी होगी तभी आप SEO में Expert हो पायंगे।

Basic terms used in SEO-

1) Backlinks-

अपनी वेबसाइट का लिंक दूसरी वेबसाइट पर बनाना। आप Guest Post के माध्यम से , comment के माध्यम से backlinks बना सकते है।

2) Keyword-

Query asked by a user on google

3) Meta description-

Google पर जब हम किसी query को type करते है तो हमारे सामने बहुत सारे results आते है।

रिजल्ट्स में Title के नीचे जो sentance पाए जाते है उन्हें हम meta description कहते है।

4) Broken Links –

यह वह link होते है , जो खाली होते है मतलब इसपर कोई भी content नहीं होता है। जब हम इसपर क्लिक करते है तो 404 का error आता है।

5) Interlinking and external linking-

दोस्तों, बहुत ही important Seo factor है , यह आपकी वेबसाइट को rank करवाने में बहुत बड़ा roleplay करता है।

Interlinking का मतलब होता है , अपनी एक post का लिंक अपनी दूसरी पोस्ट में बनाना।

यह आपकी वेबसाइट की Ranking के लिए बहुत ही बड़ा important factor है।

External Linking का मतलब है अपनी वेबसाइट की पोस्ट में किसी External वेबसाइट का लिंक बनाना।

यह भी सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का एक महत्वपूर्ण फैक्टर है।

6) Anchor Text –

यह वह शब्द होता है जिसके ऊपर आप आप अपनी बैकलिंक बनाते हो। यह Clickable होता है और इसके अंदर हमारा main Keyword होना चाहिए ताकि हमारे पोस्ट की Ranking Improve हो।

7) Title –

यह आपकी Post का मुख्य टाइटल होता है और सर्च रिजल्ट में Audience को यह सबसे पहले दिखाई देता है।

8) SERP –

इसका अर्थ है Search Engine Result Page. यह केवल सर्च इंजन में मौजूद pages को Show करता है।

9) Keyword Density –

Keyword Density का अर्थ है एक पोस्ट में एक keyword कितनी बार आया है। यह Seo के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।

10) Robot.txt –

यह एक File होती है जो Google Bot को यह बताने में मदद करती है उसको किन pages में visit करना है और कौन से pages Ignore करने है।

SEO की FullForm क्या है।

Ans- Search Engine Optimization

क्या हम बिना seo के वेबसाइट को रैंक करवा सकते है ?

दोस्तों , अगर आप एक ऐसा कीवर्ड find कर लेते हो जिसके ऊपर competition बिलकुल भी नहीं है तो आप आसानी से अपनी Post को गूगल पर रैंक करवा सकते हो।

परन्तु Ranking के लिए आपको कम से कम onpage seo करना होगा ताकि गूगल को समझ में आ जाए आपकी पोस्ट किस कीवर्ड पर optimise है।

इसलिए गूगल पर पोस्ट को रैंक करवाने के लिए आपको कम से कम onpage seo करना होगा।

SEO का टारगेट क्या है?

एक ब्लॉगर के लिए Seo बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण टर्म है इसके माध्यम से आप अपने ब्लॉग और पोस्ट को सर्च इंजन के अनुसार ऑप्टिमाइज़ कर सकते है।

ताकि सर्च इंजन को आपके Content के बारे सटीक और सही जानकारी मिले और वह Right Query पर आपकी पोस्ट को अपने सर्च रिजल्ट में दिखाए।

Seo का मुख्य टारगेट होता है आपकी पोस्ट को Right कीवर्ड पर ऑप्टिमाइज़ करना ताकि आपकी पोस्ट गूगल पर रैंक कर जाए।

Final words on सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है

दोस्तों आज के आर्टिकल में हमने डिटेल में समझा है सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है।

मुझे उम्मीद है आज के आर्टिकल में मैंने आपका seo से related basic qeries solve कर दी है।

अगर आपको मेरा आर्टिकल अच्छा लगा तो इसको ज्यादा से ज्यादा share कीजिये।

Also Read – How to create landing Pages in hindi

Seo क्या है से जुड़े सवाल और जवाब –

Q1) How do you do SEO for a website?

Ans – आप एक वेबसाइट का प्रॉपर SEO उसके onpage और Offpage को Improve करके कर सकते है।

Onpage SEO करने से पहले आपको low Competition Keyword पर Focus करना चाहिए।

Q2) -सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है

Ans – search engine optimization एक कला है जिसके माध्यम से आप अपनी वेबसाइट या pages को गूगल पर Top position में Rank करवा सकते है।

Q3) How can I learn SEO at home?

Ans – आप Youtube, Blogs और Online Courses के माध्यम से SEO को सीख सकते है।

Leave a Reply